Sunday, March 28, 2010

गीता - सार

गीता - सार
  • क्यों व्यर्थ की चिंता करते हो? किससे व्यर्थ डरते हो? कौन तुम्हें मार सक्ता है? आत्मा ना पैदा होती है, मरती है।
  • जो हुआ, वह अच्छा हुआ, जो हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है, जो होगा, वह भी अच्छा ही होगा। तुम भूत का पश्चाताप करो। भविष्य की चिन्ता करो। वर्तमान चल रहा है।
  • तुम्हारा क्या गया, जो तुम रोते हो? तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया? तुमने क्या पैदा किया था, जो नाश हो गया? तुम कुछ लेकर आए, जो लिया यहीं से लिया। जो दिया, यहीं पर दिया। जो लिया, इसी (भगवान) से लिया। जो दिया, इसी को दिया।
  • खाली हाथ आए और खाली हाथ चले। जो आज तुम्हारा है, कल और किसी का था, परसों किसी और का होगा। तुम इसे अपना समझ कर मग्न हो रहे हो। बस यही प्रसन्नता तुम्हारे दु:खों का कारण है।
  • परिवर्तन संसार का नियम है। जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो जीवन है। एक क्षण में तुम करोड़ों के स्वामी बन जाते हो, दूसरे ही क्षण में तुम दरिद्र हो जाते हो। मेरा-तेरा, छोटा-बड़ा, अपना-पराया, मन से मिटा दो, फिर सब तुम्हारा है, तुम सबके हो।
  • यह शरीर तुम्हारा है, तुम शरीर के हो। यह अग्नि, जल, वायु, पृथ्वी, आकाश से बना है और इसी में मिल जायेगा। परन्तु आत्मा स्थिर है - फिर तुम क्या हो?
  • तुम अपने आपको भगवान के अर्पित करो। यही सबसे उत्तम सहारा है। जो इसके सहारे को जानता है वह भय, चिन्ता, शोक से सर्वदा मुक्त है।
  • जो कुछ भी तू करता है, उसे भगवान के अर्पण करता चल। ऐसा करने से सदा जीवन-मुक्त का आन्दन अनुभव करेगा।

19 comments:

  1. इस नए चिट्ठे के साथ हिंदी ब्‍लॉग जगत में आपका स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  2. आपके ब्लॉग पर आकर कुछ तसल्ली हुई.ठीक लिखते हो. सफ़र जारी रखें.पूरी तबीयत के साथ लिखते रहें.टिप्पणियों का इन्तजार नहीं करें.वे आयेगी तो अच्छा है.नहीं भी आये तो क्या.हमारा लिखा कभी तो रंग लाएगा. वैसे भी साहित्य अपने मन की खुशी के लिए भी होता रहा है.
    चलता हु.फिर आउंगा.और ब्लोगों का भी सफ़र करके अपनी राय देते रहेंगे तो लोग आपको भी पढ़ते रहेंगे.
    सादर,

    माणिक
    आकाशवाणी ,स्पिक मैके और अध्यापन से सीधा जुड़ाव साथ ही कई गैर सरकारी मंचों से अनौपचारिक जुड़ाव
    http://apnimaati.blogspot.com


    अपने ब्लॉग / वेबसाइट का मुफ्त में पंजीकरण हेतु यहाँ सफ़र करिएगा.
    www.apnimaati.feedcluster.com

    ReplyDelete
  3. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete
  4. कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,

    धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,

    कलम के पुजारी अगर सो गये तो

    ये धन के पुजारी वतन बेंच देगें।

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ , साथ हीं जनोक्ति द्वारा संचालित एग्रीगेटर " ब्लॉग समाचार " http://janokti.feedcluster.com/ से भी अपने ब्लॉग को अवश्य जोड़ें .

    ReplyDelete
  5. संता- यार तू बॉल कैच करने में इतना एक्सपर्ट कैसे बना?

    बंता- राज की बात है।

    संता- बता न।

    बंता- तेरी भाभी को रोज गुस्सा आता है। वह गुस्से में बर्तन फेंकती है। बस मुझे खुद-ब-खुद कैच लेना आ गया।

    ReplyDelete
  6. BAHUT ACHA LIKHA AAJ SANSAAR KO IS SAAR TATAV KI HI JARURAT HE

    ReplyDelete
  7. bagwan naam ka koi chez nahi hota agaar bhagman mujhe mile to bhagwan apne app ko kosega ki wo bhagwan kyu hai..... bhagwan is such a rubbish think. bharosa karo apne aap pe ki tum duniya badlne ke liye kya kar sakte ho tab jaa ke tum bhagwan ko bhol jawoge aur apne aap ko bhagwn ke jagah par mahsus karoge.....

    ReplyDelete
  8. Ram Narayan Ray Janakpur Nepal Hal Saudi Arab Riyadh

    ReplyDelete
  9. SUBAH LIKTA HO SHAM LIKTA HOO.
    HALAI DIL TAMAM LIKTA HOO.
    BO KALAM BHI DEEWANI HO JATI HAI
    JISSE AAPKA NAME LIKTA HOO.

    ReplyDelete
  10. ma nepali hu ma bahut khus hu kuiki yesha sandesh mana pada,
    ki muja vi ananda mil gaya.
    thanks for you,

    I'm ganesh subedi from syangja,Nepal

    ReplyDelete
  11. Hiiiiiiiii, I"m Atul, very nice. I like it.

    ReplyDelete
  12. यही सच्चाई है (गीतासार)ॐ

    ReplyDelete
  13. Ese pad kar jine ki rah badlo .mere pyare doston

    ReplyDelete
  14. पढ़े श्रीमद भगवद्गीता on Facbook ........
    https://www.facebook.com/pages/Srimad-Bhagavad-Gita/475547895824758?ref_type=bookmark

    ReplyDelete